Home Blog GST विभाग के उत्पीड़न से छुब्ध कोयला व्यापारियों ने एडिशनल कमिश्नर से की शिकायत

GST विभाग के उत्पीड़न से छुब्ध कोयला व्यापारियों ने एडिशनल कमिश्नर से की शिकायत

0
GST विभाग के उत्पीड़न से छुब्ध कोयला व्यापारियों ने एडिशनल कमिश्नर से की शिकायत

अधिकारियों द्वारा हो रही जांच पर कोई व्यापारी संतुष्ट नहीं है तो कोई भी अधिकारी डरा धमका कर हस्ताक्षर नहीं करा सकता – प्रिंस कुमार

वाराणसी

चंदासी में एस आई बी विभाग द्वारा कोल व्यवसाइयों का आए दिन गलत तरीके से किए जा रहे उत्पीड़न से क्षुब्ध होकर शुक्रवार को व्यापारियों ने वाराणसी चेतगंज स्थित जीएसटी कार्यालय में पहुंचकर एडिशनल कमिश्नर ग्रेड वन प्रिंस कुमार से शिकायत दर्ज कराई। प्रिंस कुमार ने प्रमुख बिंदुओं को ध्यान से सुनकर अपने अधीनस्थ विभागीय कर्मचारियों को बुलाकर वार्ता की और व्यापारियों को भरोसा दिलाया कि आप लोगो के साथ किसी भी प्रकार का उत्पीड़न और गैर कानूनी कार्य नहीं किए जाएंगे। चंदासी कोल ट्रेडर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष सतीश जिंदल की अगुवाई में व्यापार मंडल के जिला अध्यक्ष लक्ष्मीकांत अग्रहरि व प्रदेश मंत्री चंदेश्वर जायसवाल सहित दर्जनों व्यापारी जीएसटी कार्यालय में पहुंचकर पिछले कई महीनो से मंडी में हो रही जांच के नाम पर व्यापारियों के साथ हो रहे उत्पीड़न के लिए शिकायत दर्ज कराई। व्यापारियों का आरोप है कि कोयला मंडी में विभाग द्वारा अनावश्यक कोयले की नापी फीता द्वारा किया जाता है जो सरासर गलत है है। वहीं पिछले चार-पांच वर्षों से कुछ खरीदें गए कोयले का टैक्स कई गुना भरना पड़ रहा है जिसका यह कारण बताया जा रहा है कि जिस फार्म से कोयला खरीदा गया वह बोगस है अब इसकी जानकरी हमे कैसे हो सकती है कि कौन फॉर्म बोगस है और कौन सही है। वही बोगस फॉर्म को तो चालू कर दिया जा रहा है लेकिन खरीददार की फर्म बंद पड़ी है जिससे कुछ व्यापारियों को काफी घाटा उठाना पड़ रहा है लोग भूखों मरने के कगार पर हैं। वह बैंकों के ब्याज की भरपाई कैसे कर पाए। विभाग के इस उत्पीड़न से कोयला मंडी में कभी भी कोई बड़ी घटना घट सकती है। एक करोड़ रुपए से ज्यादा टैक्स देने का आदेश जारी कर दिया गया है।आरोप लगाया कि मनमर्जी डिपो में कोयले का वजन लिख दिया जाता है जो सरासर गलत है।और जीएसटी निरस्त करने की धमकी से धन उगाही का प्रयास किया जाता है। प्रिंस कुमार ने कहा कि अगर ऐसा हो रहा है तो यह व्यापारियों की सहमति से ही वजन लिखना चाहिए बगैर सहमति के नापी करने का भी कोई प्रावधान नहीं है उन्होंने कहा कि जीएसटी विभाग के अधिकारियों द्वारा हो रही जांच पर कोई व्यापारी संतुष्ट नहीं है तो कोई भी अधिकारी डरा धमका कर हस्ताक्षर नहीं करा सकता है ऐसा कानून में लिखा हुआ है। रात में कोई भी जांच करने का आदेश नहीं है दिन में हो रही जांच रात तक की जा सकती है इसमें व्यापारी विभाग का सहयोग करें।

अध्यक्ष सतीश जिंदल ने भरोसा दिलाया कि हम व्यापारी विभाग के साथ हैं वशर्तें हमारा भी सहयोग समय-समय पर विभाग करता रहे जो भी बोगस  हैं उसे चिन्हित करके कार्रवाई किया जाए ताकि हम लोग को यह मालूम हो जाए कि कौन  है जो फर्जी कार्य कर रहे हैं कई बिंदुओं पर शिकायत दर्ज करने के बाद ग्रेड वन के एडिशनल कमिश्नर प्रिंस कुमार ,ग्रेट 2 के मानवेंद्र सिंह व मनोज कुमार के साथ हुई बैठक में व्यापारी काफी संतुष्ट दिखे। व्यापार मंडल के अध्यक्ष लक्ष्मीकांत अग्रहरि ने कहा कि व्यापारी राजस्व देने का कार्य करता है यह सरकार बनाने  उसे मजबूत करने में सबसे बड़ी भागीदारी निभाते हैं इनके साथ हो रहे उत्पीड़न को रोका नहीं गया तो आंदोलन करने के लिए बाध्य होंगे प्रदेश मंत्री चंदेश्वर जायसवाल ने कहा कि कोल व्यापारियों की लगातार हो रही शिकायतों पर आप सभी लोग सहयोग करें ताकि हम व्यापारी सुचारू से अपने कारोबार को संचालित कर सकें। इस दौरान सचिव मोहित बगड़िया,उपाध्यक्ष अशोक कनोडिया, कोषाध्यक्ष देश दीप मित्तल, सह सचिव हरिशंकर सिंह मुन्ना, राम अवतार तिवारी “लल्लू” , पीयूषअग्रवाल , मनोज अग्रवाल, मीडिया प्रभारी आशाराम यादव,नारायण सिंह यादव, आदि लोग उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here